भारत का इतिहास हमारा कई हजार वर्ष पुराना माना जाता है। करीब 65,000 साल पहले, आज का आधुनिक मनुष्य, या जिसे विज्ञानं की भाषा में होमो सेपियन्स कहा जाता है ,जो अफ्रीका से भारतीय उपमहाद्वीप में पहुँचे थे, वहीँ वे पहले विकसित हुए थे।सबसे पुराना आधुनिक मानव आज से लगभग ३००००  वर्ष पहले- दक्षिण एशिया में रहता था। विकिपीडिया के अनुसार  6500 ईसा पूर्व के बाद, खाद्य- फसल और जानवरों के वर्चस्व के सबूत, कई स्थायी संरचनाओं का निर्माण और कृषि अधिशेष का भण्डारण मेहरगढ़और बलूचिस्तान के अन्य स्थलों के रूप में हमे दिखाई देता है। 

Source: thehindu

Complete History Notes for IAS, RAS..

फिर ये धीरे-धीरे सिंधु घाटी सभ्यता में विकसित हुए ,यह विश्व की प्राचीन नदी घाटी सभ्यताओं में से एक प्रमुख सभ्यता है। इसे हड़प्पा सभ्यता के नाम से भी जाना जाता है। दक्षिण एशिया में यह पहली शहरी संस्कृति थी , जो अब पाकिस्तान और पश्चिमी भारत में 2500-1900 ई.पू. के दौरान पनपी थी । मेहरगढ़ भी पुरातात्विक दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थान है जहां नवपाषाण युग (7000 ईसा-पूर्व से 2500 ईसा-पूर्व) के बहुत से अवशेष हमे मिले हैं। सिन्धु घाटी सभ्यता की लिपि अब तक सफलता पूर्वक पढ़ी नहीं जा सकी है। पुरातत्त्व प्रमाणों के आधार पर 1900 ईसापूर्व के आसपास इस सभ्यता का अचानक से पतन हो गया था।

शुरूआती जानकारी

19वीं शताब्दी के पाश्चात्य विद्वानों के प्रचलित दृष्टिकोणों के अनुसार, आर्यों का सबसे पहले एक वर्ग भारतीय उप महाद्वीप की सीमाओं पर (विकिपीडिया के अनुसार  2000 ईसा पूर्व) पहुंचा और पहले पंजाब में बस गया और फिर यहीं ऋग्वेद की ऋचाओं की रचना की गई थी। तथ्यों के अनुसार आर्यों द्वारा फिर उत्तर तथा मध्य भारत में एक विकसित सभ्यता का निर्माण किया गया, जिसे फिर बाद में वैदिक सभ्यता भी कहते हैं। इतिहास में वैदिक सभ्यता को प्राचीन भारत की प्रारम्भिक सभ्यता माना जाता है जिसका सम्बन्ध हम आर्यों के आगमन से कर सकते है। इसका नामकरण भी आर्यों के प्रारम्भिक साहित्य वेदों से लिया गया है। स्त्रोत के अनुसार, उनकी भाषा संस्कृत थी और धर्म “वैदिक धर्म” या “सनातन धर्म” था, बाद में विदेशी आक्रान्ताओं द्वारा इस धर्म का नाम फिर हिन्दू पड़ गया।

प्रमुख भाग

इतिहास को मुख्य तौर पर 4 भागो में बांटा गया है-

  • प्राचीन भारत | Ancient India
  • मध्यकालीन भारत | Medieval India
  • प्रारंभिक आधुनिक भारत | Early Modern India
  • आधुनिक भारत | Modern India

प्राचीन भारत | Ancient India In Hindi :

लगभग 55000 वर्ष पहले (Wikipedia के अनुसार ) आधुनिक मानव या जिन्हें होमो सेपियन्स कहते है , अफ्रीका से भारतीय उपमहाद्वीप में पहुंचे थे। दक्षिण एशिया में अभी तक मिला मानव का सबसे प्राचीनतम अवशेष 30000 वर्ष पुराना है। भीमबेटका, मध्य प्रदेश की गुफाएँ, आदि भारत में मानव जीवन का सबसे प्राचीनतम प्रमाण हैं जो अभी तक हमें मिला है , और न जाने कितने ऐसे प्रमाण है जो कहीं न कहीं दबे- पड़े है।

मध्यप्रदेश की भीमबेटका गुफाएँ

सबसे प्रथम जो अभी तक हमें स्थाई तौरपर बनाई हुई बस्तियां मिली है वो 9000 वर्ष पूर्व की है। 6500 ईसा पूर्व तक आते आते मनुष्य प्रजाती ने खेती करना सीख लिया , जानवरों को पालना तथा रहने के लिए घरों का निर्माण करना शुरू कर दिया था. जिसका अवशेष हमें आज भी मेहरगढ़ में मिलता है . जो कि अभी पाकिस्तान में है।

सबसे पुरानी बिल्डिंग – मेहरगढ़

यह फिर बाद में सिंधु घाटी सभ्यता के रूप में विकसित हुआ, जैसा कि पहले बताया था ये दक्षिण एशिया की सबसे प्राचीन शहरी सभ्यता में से एक है। यह अभी वर्तमान में पश्चिम भारत तथा पाकिस्तान में स्थित है। यह सभ्यता मोहनजोदड़ो, हड़प्पा, धोलावीरा, और कालीबंगा जैसे शहरों के आसपास थी और खास बात इसकी यह थी कि यहाँ विभिन्न प्रकार के निर्वाह हुए करते थे , यहाँ व्यापक बाजार था तथा शिल्प उत्पादन होता भी खूब होता था।

सिधु घाटी सभ्यता का एक प्रसिद्ध शहर
कालीबंगा (राजस्थान ) में मिले प्राचीन अवशेष

ताम्र पाषाण युग संस्कृति (wikipedia के अनुसार 2000 से 500 ईसा पूर्व ) से लौह युग का आगमन हुआ था। लौह युग को हिंदी धर्म से जुड़े सबसे प्राचीनतम धर्म ग्रंथ, वेदों का रचनाकाल भी माना जाता है और पंजाब रीजन और गंगा के ऊपरी मैदानी क्षेत्र को वैदिक संस्कृति का निवास स्थान माना जाता है। इतिहासकारों का ये भी मानना है की इसी लौह युग में उत्तर-पश्चिम से भारतीय-आर्यन का आगमन भी हुआ था। इसी अवधि में मनुष्यों को जाति प्रथा में बाँटना शुरू हुआ था।

Iron Age- Findgyan.com
लौह युग ( बॉक्स में धनुष)- FindGyan.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.